माननीय न्यायालय सीजेएम मथुरा में थाना गोवर्धन के एसआई द्वारा दाखिल की गई फर्जी रिपोर्ट के खिलाफ पीड़ित विशाल सोनी ने लगाई आपत्ति , अपराधियों को तलब कर मुकदमा दर्ज करने की मांग

डॉ केशव आचार्य गोस्वामी जीएस भावना गोस्वामी
मथुरा (उत्तर प्रदेश)( भारतीय न्यूज़ 24) जिला एवं सत्र न्यायालय मथुरा के सीजीएम न्यायालय में दाखिल याचिका में थाना गोवर्धन के पूर्व थानाध्यक्ष लोकेश भाटी को बचाने हेतु एसआई सतपाल सिंह नागर द्वारा माननीय न्यायालय को गुमराह करते हुए एवं पीड़ित के मान सम्मान से खिलवाड़ करते हुए झूठी मनगढ़ंत तथ्य हीन फर्जी रिपोर्ट दाखिल की गई जिसके विरोध में पीड़ित द्वारा अपने अधिवक्ता अखिलेश कुमार शर्मा से विधिक राय लेते हुए माननीय न्यायालय में माननीय न्यायालय सीजीएम मथुरा के यहां पर प्रार्थना पत्र देकर झूठी रिपोर्ट को खारिज कर उक्त सभी षड्यंत्र करने वाले पुलिस अधिकारियों को तलब कर याचिका पर झूठी रिपोर्ट दाखिल करने के संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की गई है क्यों न फर्जी रिपोर्ट भेजने के संबंध में एवं माननीय न्यायालय को गुमराह कर और पीड़ित के मान सम्मान से खिलवाड़ करने के अपराध में एफ आई आर दर्ज कर दंडित किया जावे
माननीय न्यायालय में पीड़ित विशाल सोनी की आज सुनवाई होनी थी लेकिन सीजीएम न्यायालय का बहिष्कार होने के कारण माननीय न्यायालय अवकाश पर चली गई जिसके चलते पीड़ित पीड़ित के अधिवक्ता द्वारा प्रार्थना पत्र दाखिल किया गया जिस पर माननीय न्यायालय की अनुपस्थिति में 9 दिसंबर की तारीख नियत की गई है अब देखना यह है कि 9 दिसंबर को माननीय न्यायालय उक्त फर्जी रिपोर्ट के संबंध में दाखिल करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ न्यायिक भावना के अंतर्गत क्या कदम उठाती है मथुरा जनपद में खाकी वर्दीधारी गुंडों का आतंक हो गया है पूर्व थाना अध्यक्ष लोकेश भाटी के खिलाफ माननीय न्यायालय सीजीएम पूर्व में ही 4 याचिका दाखिल की गई है जो अभी तक विचाराधीन है लोकेश भाटी द्वारा अपने कार्यकाल में पत्रकार मनीष शर्मा , ऋषभ कौशिक , स्वामी पवन शर्मा , गोपाल प्रसाद सैनी के खिलाफ फर्जी मुकदमे दर्ज कर चुका है तथा बार एसोसिएशन मथुरा के वरिष्ठ अधिवक्ता डॉक्टर केसी गोस्वामी पर जानलेवा प्राणघातक हत्या के प्रयास की वारदात को अंजाम देकर अपहरण लूट कराई गई जिस के संबंध में मथुरा का पुलिस विभाग उक्त खाकी वर्दीधारी शातिर कुंडे को बचाने में लगा हुआ है सूत्रों ने बताया है कि खाकी वर्दीधारी शातिर गुंडा लोकेश भाटी के संपर्क पुलिस प्रशासन में बैठे हुए अपने रिश्तेदार से हैं जो कि लोकेश भाटी को और इसके अपराधियों को संरक्षण देते हुए बचाने का हर संभव प्रयास करता है इसी के बल पर लोकेश भाटी वारदातों को अंजाम देता है
योगी के शासन में वर्दीधारी पुलिस निरंकुश हो गई है और पीड़ितों का शोषण कर पुलिस भर्ती में लूट हत्या डकैती को अंजाम दे रही है जबकि योगी शासन कहता है किसी के साथ में अन्याय नहीं होगा यहां पर उत्तर प्रदेश की वर्दीधारी पुलिस गुंडों का रूप धारण करके आपराधिक वारदातों को अंजाम दे रही है और भाजपा का योगी शासन मूकदर्शक बना हुआ है
फोटो नंबर एक एसआई सतपाल सिंह नागर फर्जी रिपोर्ट लगाने वाला
फोटो नंबर दो पूर्व थाना अध्यक्ष लोकेश भाटी पीड़ित के संग में वारदात करने वाला
फोटो नंबर तीन वर्तमान थाना अध्यक्ष प्रदीप कुमार पूर्व थाना अध्यक्ष को बचाने के लिए फर्जी रिपोर्ट दाखिल कराने वाला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here