कोरोना काल के बाद पहली बार कोहरे ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है। मंगलवार को जब लोग सो कर बिस्तर से उठे थे तो कोहरे की धुंध पूरे आगरा पर छाई हुई थी। कोहरे की सफेद चादर ने पूरे शहर को अपने आगोश में ले लिया था।
जहां एक तरफ शहरवासी कोहरे का लुफ्त उठा रहे थे, तो वही मोहब्बत की निशानी कहे जाने वाले दुनिया के सातवें अजूबे यानी कहे जाने वाले विश्व विख्यात ताजमहल को निहारने वाले पर्यटकों में मायूसी देखी जा रही थी।
कोहरे की सफेद चादर ने पूरे ताजमहल को ढक दिया था। यही वजह थी कि ताज निहारने वाले पर्यटक ताज का दीदार नहीं कर पा रहे थे।

वैसे तो करोना कॉल के समाप्ति के बाद संस्कृति मंत्रालय ने एक दिन में केवल पांच हजार पर्यटकों को ही ताज निहारने की अनुमति दे रखी है। मगर मंगलवार को जब पर्यटक ताज निहारने पहुंचे तो ताजमहल कोहरे में दिख ही नहीं रहा था। ऐसे में मायूस पर्यटक बिना ताज का दीदार कर ही लौट रहे थे।जहां कोहरे की तेज धुंध से पर्यटकों को ताज के दीदार करने में परेशानी हो रही थी। तो वही ताजमहल पर फोटोग्राफी में भी काफी दिक्कतें आ रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here